समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने किया खारिज

समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने किया खारिज

समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने किया खारिज। उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर संसदीय सीट के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवारों को समर्थन देने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने सिरे से खारिज कर दिया है। बसपा में मीडिया का काम देखने वाले परेश मिश्रा ने कहा कि अभी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है। यह सही है कि पार्टी की बैेठकें हुई हैं, लेकिन उसमें इस तरह का निर्णय नहीं लिया गया है।

समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने खारिज कर दिया है

बसपा में कार्यकर्ताओं से मशविरा कर पार्टी अध्यक्ष मायावती ही निर्णय लेती हैं। कयास लगाए जा रहे थे कि बसपा ने गोरखपुर और फूलपुर में सपा उम्मीदवारों को समर्थन दे दिया है। बसपा उपचुनाव नहीं लड़ती है, इसलिए इस कयास को ज्यादा बल मिला। हालांकि, राजनीतिक प्रेक्षक मानते हैं कि दोनों दलों के एक साथ आने पर पिछड़े, दलित और मुसलमानों का बेहतरीन ‘काम्बिनेशन’ बनेगा। इन तीनों की आबादी राज्य में करीब 70 फीसदी है। तीनों एक मंच पर आ जाएंगे तो भाजपा के लिए मुश्किल हो सकती है।

समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने किया खारिज

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बसपा को एक भी सीट नहीं हासिल हुई थी, जबकि सपा मात्र पांच सीट जीत सकी थी। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा केवल 47 सीटों पर जीती थी जबकि बसपा 19 सीटों पर ही सिमट गई थी। उत्तर प्रदेश विधानसभा में कुल 403 और लोकसभा की 80 सीट हैं। 30 अक्टूबर और दो नवंबर 1990 को अयोध्या में हुए गोलीकांड के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की काफी किरकिरी हुई थी। उसके कुछ महीने बाद 1991 में हुए विधानसभा के चुनाव में यादव को करारी शिकस्त मिली थी। भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में पहली बार सरकार बनाई थी।

समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने किया खारिज

उन्होंने बताया कि कल्याण सिंह को मुख्यमंत्री बनाया गया था। छह दिसंबर 1992 को कारसेवकों ने विवादित ढांचा ढहा दिया था। कल्याण सिंह सरकार बर्खास्त कर दी गई थी। वर्ष 1993 में बसपा के तत्कालीन अध्यक्ष कांशीराम और मुलायम सिंह यादव की पार्टी सपा ने मिलकर चुनाव लड़ा। इसका नतीजा रहा कि 1993 में सपा-बसपा गठबंधन ने सरकार बनाई और मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री चुने गए। सरकार करीब डेढ़ साल चली कि इसी बीच 2 जून 1995 को लखनऊ में स्टेट गेस्ट हाऊस कांड हो गया। बसपा अध्यक्ष मायावती के साथ समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने दुर्व्यवहार किया था। गठबंधन टूट गया और भाजपा के सहयोग से मायावती पहली बार मुख्यमंत्री बन गईं। तभी से सपा और बसपा के संबन्ध पीछे बने रहे।

समाजवादी पार्टी के नजदीक आने की अटकलों को बहुजन समाज पार्टी ने किया खारिज

परेश मिश्रा ने कहा कि लोकसभा की 2 सीटों पर हो रहे उपचुनाव में यदि बसपा समर्थन देती है तो राज्य की राजनीति में इसके दूरगामी परिणाम होने की संभावना है। राजनीतिक मामलों के जानकार राजेन्द्र प्रताप सिंह का कहना है कि बसपा उपचुनाव में अपने उम्मीदवार नहीं खड़ा करती है, इसलिए उपचुनाव में यदि बसपा सपा को समर्थन देती है तो अभी से इसका यह मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए कि 2019 में दोनों दल एक साथ रह सकते हैं। उधर, कह रहीम कैसे निभे, केर-बेर को संग। कहकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सपा-बसपा के नजदीक आने की संभावनाओं को नकारा। उनका कहना था कि दोनों दलों की रीति-नीति अलग अलग है। दोनों के स्वभाव भिन्न हैं। ऐसे में सपा-बसपा मिलकर चुनाव लडऩे की संभावना नहीं के बराबर है। उन्होंने कहा कि स्टेट गेस्ट हाऊस कांड और लखनऊ में बने स्मारकों को ध्वस्त करने की चेतावनी को एक दल कैसे भूल सकता है।

बेहद ही खूबसूरत है ये मॉडल, देखें कुछ खास तस्वीरें जरूर देखे वरना बाद में पछताएंगे

टाइगर श्रॉफ दिशा पटानी के ऊपर है साजिद सर का हाथ जानिए खबर

दीपिका कक्कड़ और शोएब इब्राहिम ने मुंबई में दिया शादी का ग्रैंड रिसेप्शन

दीपिका पादुकोण में 3 अभिनेत्रियों की झलक दिखाई देती है संजय लीला भंसाली

ताजातरीन खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

हिन्दी खबरों से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Google Play Store सें ⇒⇒⇒ MdssHindiNews (App)

दोस्तों संग शेयर करें
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on LinkedIn
Linkedin
Pin on Pinterest
Pinterest
Share on Tumblr
Tumblr

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *