विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी

विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी

विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी। पोर्ट एलिजाबेथ में खेला गया पांचवां वनडे मुकाबला जीतकर भारत ने साउथ अफ्रीका में पहली बार एक द्विपक्षीय वनडे सीरीज अपने कब्जे में कर ली है। विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी। कोहली की छवि अभी दुनिया के सबसे आक्रामक क्रिकेट कप्तान की है। उनकी शैली की तारीफ ही नहीं, आलोचना भी होती रही है। सारी आलोचनाएं निराधार नहीं कही जा सकतीं, लेकिन मानना होगा। कि कोहली की विशेषताएं महज आक्रामकता तक सीमित नहीं हैं।

विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी कोहली की विशेषताएं महज आक्रामकता तक सीमित नहीं

यह गुण सौरव गांगुली में भी कम नहीं था, जिनकी गिनती भारत के ऑल टाइम ग्रेट कप्तानों में होती है। दूसरे छोर पर मोहम्मद अजहरुद्दीन का नाम लिया जा सकता है, जिन्होंने कप्तान के रूप में शायद ही कभी अपनी भावनाएं मैदान पर प्रदर्शित की हों। कूल कैप्टन धोनी भी अधिकतम तनाव के पलों में भी चेहरे पर मुस्कान बनाए रखते थे। तो सिर्फ कूल या अग्रेसिव कैटिगरी में रखे जाने भर से किसी भी कप्तान की पूरी खासियत जाहिर नहीं होती। विराट कोहली जिस तरह से पूरी टीम में कॉन्फिडेंस भरते हैं, उसे अब हर क्रिकेट विश्लेषक रेखांकित करने लगा है।

विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी पोर्ट एलिजाबेथ में 

विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगीइसका सबसे ज्यादा असर गेंदबाजों पर पड़ता दिख रहा है। भारतीय क्रिकेट टीम अपने पूरे इतिहास में मुख्य रूप से बल्लेबाजों के भरोसे ही मैदान में उतरती रही है। बोलरों की भूमिका यहां सहायक जैसी ही रहती आई है। लेकिन कोहली की टीम में बोलर विपक्षी टीम का सफाया करने का नजरिया लेकर रन-अप पर उतरते हैं। विराट कोहली ने बतौर कप्तान अपने गेंदबाजों को कह रखा है कि रनों की फिक्र छोड़कर वे विकेट लेने पर फोकस बनाए रखें। कैप्टन अगर हमलावर होकर अपनी पूरी साख दांव पर लगाने को तैयार हो तो गेंदबाज और फील्डर अपनी तरफ से कोई कोताही नहीं बरत सकते।

विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी दुनिया के सबसे आक्रामक क्रिकेट कप्तान की है

इस दौरे में ही कप्तान कोहली की रिस्क-टेकिंग एबिलिटी की कई मिसालें देखने को मिलीं। हमले के लिए स्पिनरों पर निर्भर मानी जाने वाली भारतीय टीम जोहानिसबर्ग टेस्ट में न सिर्फ पांच तेज गेंदबाजों के साथ उतरी, बल्कि श्रृंखला में सफाये के खतरे को परे धकेलकर यह टेस्ट अपनी झोली में कर लिया। मानना होगा कि कोहली की यह टीम वह टीम इंडिया नहीं है, जिसे देखने के हम आदी रहे हैं। इसे जांचने के लिए नई कसौटियां गढ़नी होंगी।

बॉलीवुड और हॉलीवुड से जुडी चटपटी और मज़ेदार खबरे, फ़िल्मी स्टार की जिन्दगी से जुडी बातें, आपकी पसंदीदा सेलेब्रिटी की फ़ोटो, विडियो और खबरे पढ़े MDSS हिंदी न्यूज़ पर

करण कुंद्रा ब्रेकअप की वजह से मुश्किलों का सामना कर रहें है जानिये खबर

शिल्पा शिंदे भाभी जी विवाद में मुझे डराने की कोशिश की गई जानिये पूरी खबर

सोनाक्षी सिन्हा का ‘वेलकम टू न्यूयॉर्क ‘ से जुड़ा ये बड़ा राज आया सामने देखिये

ताजातरीन खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

आप से विनम्र अनुरोध है कि आर्टिकल पर लाइक और कमेंट करना ना भूले और नीचे दिए कमेंट बॉक्स में अपनी राये दे साथ ही हमे फॉलो करना ना भूले जिससे आप हमारे आने वाले आर्टिकल से जुड़े रहें

दोस्तों संग शेयर करें
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on LinkedIn
Linkedin
Pin on Pinterest
Pinterest
Share on Tumblr
Tumblr

14 thoughts on “विराट कोहली की कप्तानी में यह टीम की एक और बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *